जॉर्ज फ्लॉयड का आज होगा अंतिम संस्कार, अश्वेतों पर ज्यादती के विरोध में पुलिस विभाग ही खत्म
अफ्रीकी मूल के अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड के परिजनों और दोस्तों ने उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि देने की तैयारी शुरू कर दी है। आज उनका अंतिम संस्कार होगा। ह्यूस्टन निवासी 46 वर्षीय जॉर्ज का पार्थिव शरीर उनके शहर पहुंच चुका है। शहर के पुलिस प्रमुख ने जानकारी दी कि जॉर्ज का परिवार शहर में पूरी तरह से सुरक्षित है।

जॉर्ज फ्लॉयड का आज होगा अंतिम संस्कार, अश्वेतों पर ज्यादती के विरोध में पुलिस विभाग ही खत्म

अफ्रीकी मूल के अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड के परिजनों और दोस्तों ने उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि देने की तैयारी शुरू कर दी है। आज उनका अंतिम संस्कार होगा। ह्यूस्टन निवासी 46 वर्षीय जॉर्ज का पार्थिव शरीर उनके शहर पहुंच चुका है। शहर के पुलिस प्रमुख ने जानकारी दी कि जॉर्ज का परिवार शहर में पूरी तरह से सुरक्षित है।

पुलिस प्रमुख आर्ट ऐसवेदो ने बताया कि जॉर्ज फ्लॉयड को उनकी मां के बगल में दफनाया जाएगा। इस बीच, पूर्व उप राष्ट्रपति जो बिडेन ने कहा कि वे ह्यूस्टन में फ्लॉयड के परिवार के साथ मुलाकात करेंगे। हालांकि बिडेन अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होंगे। वे फ्लॉयड की अंतिम संस्कार के लिए एक वीडियो संदेश भी देंगे।

अंतिम संस्कार से पहले लोगों ने फ्लॉयड के अंतिम दर्शन किए। अंतिम संस्कार में केवल आमंत्रित लोग ही हिस्सा ले सकेंगे। दोनों कार्यक्रम एक ही चर्च में होंगे। मेयर सिल्वेस्टर टर्नर ने कहा कि सभी मेहमानों को यहां 10 मिनट से अधिक रहने की अनुमति नहीं होगी। अंतिम संस्कार में शामिल होने वाले लोगों को शारीरिक दूरी बनाए रखने और मास्क और दस्ताने पहनने की आवश्यकता होगी।मिनियापोलिस में पुलिस विभाग ही खत्म

इधर, अमेरिका में आजकल दो नारे गूंज रहे हैं- 'नो जस्टिस, नो पीस, नो रेसिस्ट पुलिस' और 'डिफेंड द पुलिस'। ये बता रहे हैं कि बात अब अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत से बढ़कर पुलिस की जवाबदेही पर आ टिकी है। प्रदर्शनकारियों के साथ जनप्रतिनिधि भी पुलिस तंत्र में सुधारों की आवाज बुलंद कर रहे हैं।

अश्वेतों पर ज्यादती से शर्मिंदा मिनियापोलिस सिटी काउंसिल ने पुलिस विभाग ही खत्म कर दिया है। साथ ही सामुदायिक नेतृत्व वाला सुरक्षा तंत्र बनाने की घोषणा भी कर दी है। मिनियापोलिस में ही जॉर्ज फ्लॉयड को एक पुलिस अफसर ने तड़पा-तड़पाकर मार डाला था।

  •  पुलिस ने हटाए बैरिकेड, रात भर चला मार्च
पुलिस ने कई जगहों से बैरिकेड हटाने की कार्रवाई की ताकि प्रदर्शनकारी मेनहट्टन मिडटाउन में ट्रंप इंटरनेशनल होटल और टॉवर तक जा सकें। इस बीच कर्फ्यू से मिली राहत के बाद प्रदर्शनकारी पूरी रात पुलिस बर्बरता के खिलाफ मार्च करते रहे। मेयर बिल डे ब्लासियो ने आठ बजे से ही कर्फ्यू हटा लिया था। बता दें कि शहर में कुछ दिनों पूर्व झड़प और तोड़फोड़ हुई थी।

  • ‘नस्लवाद से बदसूरत कुछ भी नहीं’
अमेरिका के मिनेसोटा में अफ्रीकन अमेरिकन व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद पूरा शहर न्याय की मांग में प्रदर्शन कर रहा है। ऐसे में हॉलीवुड के सितारे भी अपनी आवाज उठा रहे हैं। इस बीच पूर्व अमेरिकन पॉप सिंगर प्रिंस के साम्राज्य की ओर से एक संदेश जारी किया गया है। 7 जून को लिखे गए पत्र में उन्होंने लिखा कि नस्लवाद में असहिष्णुता से बदसूरत कुछ भी नहीं है।

  • दुर्व्यवहार  की संस्कृति से लड़ें : बीबर
मशहूर अमेरिकी गायक जस्टिन बीबर ने नस्लीय अन्याय के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करने की शपथ ली है। उन्होंने कहा, मेरा फैशन, मेरा गाना सब इसी संस्कृति से प्रभावित और प्रेरित हुआ है। मैं पूरी तरह इस नस्लवाद के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार हूं।

YOUR REACTION?



फेसबुक वार्तालाप